विचार ऐसे रखो

​🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿:)🙏GOOD MORNING 🙏:)

          विचार ऐसे रखो की तुम्हारे

विचारो पर भी किसी को विचार करना पड़े 

         समुद्र बनकर क्या फायदा 

       बनना है तो छोटा तालाब बनो

       जहाँपर शेर भी पानी पीयें तो

                  गर्दन झूकाकर

         🌹GOOD MORNING🌹 *अनुमान* गलत हो सकता है पर …

*अनुभव* कभी गलत नहीं होता….
क्योंकि *अनुमान* हमारे ….

*मन की कल्पना* है और ….

*अनुभव* हमारे *जीवन की सीख* है..
 *बहुत कुछ दे कर नवाज़ा है मेरे*

*मालिक ने मुझे…!*

*मेरी इबादत के हिसाब से मिलता*

*तो शायद कुछ भी ना मिलता..!!*

 🍃”भाग्य” के दरवाजे पर

सर पीटने से बेहतर है,
“कर्मो” का तूफ़ान पैदा करे

सारे दरवाजे खुल जायेंगे.!
परिस्थितिया जब विपरीत होती है,

तब “प्रभाव और पैसा” नहीं

“स्वभाव और सम्बंध” काम आते 🍃
             

    Good Morning दोस्तों

🙂

​बिहार के प्राचीन Dictionary से लिए गए कुछ चुनिंदा अँग्रेजी शब्दों के अर्थ:

​बिहार के प्राचीन Dictionary से लिए गए कुछ चुनिंदा अँग्रेजी शब्दों के अर्थ:

😭😁:)😭😁😁😁😁:)

What – आंय

.

Why – काहे

.

Where – कहवाँ

.

Who – कवन

.

Whom – केकरा

.

How – कईसे

.

Hey Dude – का बेटा

.

What’s up – का होता हो/ का हाल बीया

.

Done – हो गइल

.

Not done – ना होइल

.

Let him go – जाए दे सार के

.

I don’t know – हम का जानी

.

Smooth – चीक्कन

.

Woman – मेहरारु

.

Father – बाउजी

.

Mother – महतारी

.

Resolved – निबटाइ दीहलस

.

Slapped – हउक देलस

.

Get lost – भक्क साला

.

Stay here – हिंयैं रह

.

Now – अबही

.

Not now – अबही ना

.

Never – कबहू ना

.

Wife – दुलहिन

.

My Husband – हमार उ

.

Friend – ईयार

.

Come here – हेने आव

.

Go There – होने जो

.

Same to same – एक्के जइसन

.

Sunlight – घाम

.

Salt – नून

.

Bag – झोरा

.

Gate – केवाड़ी

.

Leg – गोड़

.

Finger – अंगुरी

.

Ox – बएल

.

Rat – मुस

.

Cat – बिलाइ

.

तो इसमें मेरा क्या दोष है?

​पति का गम!

पत्नी को किसी किटी पार्टी में जाना था तो उसने अपने पति से पूछा, “सुनो जी मैं कौन सी साड़ी पहनूं? ये नीली वाली या लाल वाली?

पति: नीली वाली पहन लो।

पत्नी: लेकिन नीली वाली तो मैंने परसो भी पहनी थी।

पति: अच्छा तो फिर लाल ही पहन लो।

पत्नी: अच्छा अब यह बताओ, लाल साड़ी के साथ सैंडल कौन से अच्छे लगेंगे? ये फूल वाले या प्लेन?

पति: प्लेन वाले।

पत्नी: अरे मैं पार्टी में जा रही हूँ, किसी कथा में नहीं। थोड़ी तड़क -भड़क तो दिखनी चाहिए ना।

पति: ताे ठीक है फूल वाले पहन लो।

पत्नी: अच्छा बिंदी कौन सी अच्छी लगेगी? ओवल या ये बड़ी या ये छोटी सी?

पति: मेरे ख्याल से तो ओवल ठीक रहेगी।

पत्नी: तुम्हें फैशन का जरा भी आइडिया नहीं है। मैंने जो साड़ी पहनी है ना, उसके साथ तो ये छोटी ही अच्छी लगेगी।

पति: तो ठीक है, छोटी बिंदी ही लगा लो।

पत्नी: अच्छा, पर्स कौन सा जमेगा? यह क्लच या बड़ा हैंडबैग।

पति: क्लच ले लो।

पत्नी: अाजकल तो बड़े हैंडबैग का फैशन है।

पति: ताे अरे बाबा, वही ले जाओ, मुझे क्या करना है। बस पार्टी को एंजॉय करना।

पत्नी जब पार्टी से लौटकर आई तो बड़े गुस्से में थी।

पति: अरे क्या हुआ?

पत्नी: तुम एक भी काम ढंग से नहीं कर सकते क्या?

पति: क्यों मैंने क्या गलत कर दिया?

पत्नी: पार्टी में सब मेरा मजाक उड़ा रहे थे कि कैसी साड़ी पहनकर आ गई, कैसी बिंदी लगाई है, पर्स और सैंडल पर भी कमेंट पास कर रहे थे।

पति: तो इसमें मेरा क्या दोष है?

पत्नी: सब मैंने तुमसे ही पूछ कर किया था न? ढंग से नहीं बता सकते थे क्या? इससे तो अच्छा था कि मैं खुद ही डिसाइड कर लेती।

सर्व तीर्थमयी माता – सर्व देवमयी पिता

​माता पिता उमर से नहीं..

फिकर से बूड़े होते है..

जब बच्चा रोता है , तो पास-पड़ोस सभी को पता चलता है ,        

मगर साहबजब  माता पिता रोते है तो कीसी को भी पता नही चलता है…

सृष्टि के सृजनकर्ता  परमात्मा ने जिव का पृथ्वी पर सृजन एवं पालन का अपना प्रतिनिधित्व माॅ एवं पिता को ही दिया है। माता पिता की सेवा द्वारा ईश्वर प्राप्ति… यह एक सरलतम उपाय है। उनका सानिध्य एवं आशिर्वाद इसी जिवन मे प्राप्त हो एसा हरसंभव प्रयास करना चाहिए।

मनुष्य जीवन की सार्थकता इसी मे है।

“सर्व तीर्थमयी माता – सर्व देवमयी पिता”,🙏🏻🚩

कला, साहित्य और संस्कृति के क्षेत्र के शोधार्थियों और अध्येताओं के शोध-पत्र