​*भगवान् श्री कृष्ण जी के 51 नाम और उन के अर्थ:…..*

​*भगवान् श्री कृष्ण जी के 51 नाम और उन के अर्थ:…..*

*1 कृष्ण* : सब को अपनी ओर आकर्षित करने वाला.।

****

*2 गिरिधर*: गिरी: पर्वत ,धर: धारण करने वाला। अर्थात गोवर्धन पर्वत को उठाने वाले।

****

*3 मुरलीधर*: मुरली को धारण करने वाले।

****

*4 पीताम्बर धारी*: पीत :पिला, अम्बर:वस्त्र। जिस ने पिले वस्त्रों को धारण किया हुआ है।

****

*5 मधुसूदन:* मधु नामक दैत्य को मारने वाले।

****

*6 यशोदा या देवकी नंदन*: यशोदा और देवकी को खुश करने वाला पुत्र।

****

*7 गोपाल*: गौओं का या पृथ्वी का पालन करने वाला।

****

*8 गोविन्द*: गौओं का रक्षक।

****

*9 श्रीनाथ* : लक्ष्मी व्  आनंद  देंने वाला।

****

*10 कुञ्ज बिहारी*: कुंज नामक गली में विहार करने वाला।

****

*11 चक्रधारी*: जिस ने सुदर्शन चक्र या ज्ञान चक्र या शक्ति चक्र को धारण किया हुआ है।

****

*12 श्याम*: सांवले रंग वाला।

****

*13 माधव:* माया के पति।

****

*14 मुरारी:* मुर नामक दैत्य के शत्रु।

****

*15 असुरारी*: असुरों के शत्रु।

****

*16 बनवारी*: वनो में विहार करने वाले।

****

*17 मुकुंद*: जिन के पास निधियाँ है।

****

*18 योगीश्वर*: योगियों के ईश्वर या मालिक।

****

*19 गोपेश* :गोपियों के मालिक।

****

*20 हरि*: दुःखों का हरण करने वाले।

****

*21 मदन:* सूंदर।

****

*22 मनोहर:* मन का हरण करने वाले।

****

*23 मोहन*: सम्मोहित करने वाले।

****

*24 जगदीश*: जगत के मालिक।

****

*25 पालनहार*: सब का पालन पोषण करने वाले।

****

*26 कंसारी*: कंस के शत्रु।

****

*27 रुख्मीनि वलभ*: रुक्मणी के पति ।

****

*28 केशव*: केशी नाम दैत्य को मारने वाले. या पानी के उपर निवास करने वाले या जिन के बाल सुंदर है।

****

*29 वासुदेव*:वसुदेव के पुत्र होने के कारन।

****

*30 रणछोर*:युद्ध भूमि स भागने वाले।

****

*31 गुड़ाकेश*: निद्रा को जितने वाले।

****

*32 हृषिकेश*: इन्द्रियों को जितने वाले।

****

*33 सारथी*: अर्जुन का रथ चलने के कारण।

***

****

*35 पूर्ण परब्रह्म:* :देवताओ के भी मालिक।

****

*36 देवेश*: देवों के भी ईश।

****

*37 नाग नथिया*: कलियाँ नाग को मारने के कारण।

****

*38 वृष्णिपति*: इस कुल में उतपन्न होने के कारण

****

*39 यदुपति*:यादवों के मालिक।

****

*40 यदुवंशी*: यदु वंश में अवतार धारण करने के कारण।

****

*41 द्वारकाधीश*:द्वारका नगरी के मालिक।

****

*42 नागर*:सुंदर।

****

*43 छलिया*: छल करने वाले।

****

*44 मथुरा गोकुल वासी*: इन स्थानों पर निवास करने के कारण।

****

*45 वल्लभ*: सदा अपने आनंद में लीन रहने वाले।

****

*46 दामोदर*: पेट पर जिन के रस्सी बांध दी गयी थी। 

****

*47 अघहारी*: पापों का हरण करने वाले।

****

*48 सखा*: अर्जुन और सुदामा के साथ मित्रता निभाने के कारण।

****

*49 रास रचिया*: रास रचाने के कारण।

****

*50 अच्युत*: जिस के धाम से कोई वापिस नही आता है।

****

*51 नन्द लाला*: नन्द के पुत्र होने के कारण।

🙏🌺 *।। जय श्री कृष्णा ।।* 🌺🙏

जिन्दगी का कडवा सच..

​60 साल के बाद दो ही प्रश्न पूछे जाएंगे ?

—————————————

 बार एक संत ने अपने दो भक्तों को बुलाया और कहा आप को यहाँ से पचास कोस जाना है
एक भक्त को एक बोरी खाने के समान से भर कर दी और कहा जो लायक मिले उसे देते जाना 
और एक को ख़ाली बोरी दी उससे कहा रास्ते मे जो उसे अच्छा मिले उसे बोरी मे भर कर ले जाए
दोनो निकल पड़े जिसके कंधे पर समान था वो धीरे चल पा रहा था ख़ाली बोरी वाला भक्त आराम से जा रहा था
थोड़ी दूर उसको एक सोने की ईंट मिली उसने उसे बोरी मे डाल लिया थोड़ी दूर चला फिर ईंट मिली उसे भी उठा लिया

जैसे जैसे चलता गया उसे सोना मिलता गया और वो बोरी मे भरता हुआ चल रहा था  और बोरी का वज़न। बड़ता गया

 उसका चलना मुश्किल होता गया और साँस भी चढ़ने लग गई एक एक क़दम मुश्किल होता गया 
दूसरा भक्त जैसे जैसे चलता गया रास्ते मै जो भी मिलता उसको बोरी मे से खाने का कुछ समान दे देता गया धीरे धीरे बोरी का वज़न कम होता गया
और उसका चलना आसान होता गया।
जो बाँटता गया उसका मंज़िल तक पहुँचना आसान होता गया 
जो ईकठा करता रहा वो रास्ते मे ही दम तोड़ गया 
दिल से सोचना हमने जीवन मे क्या बाँटा और क्या इकट्ठा किया हम मंज़िल तक कैसे पहुँच पाएँगे ।
जिन्दगी का कडवा सच…

आप को 60 साल की उम्र के बाद कोई यह नहीं पूछेंगा कि आप का बैंक बैलेन्स कितना है या आप के पास कितनी गाड़ियाँ हैं….
दो ही प्रश्न पूछे जाएंगे …
1- आप का स्वास्थ्य कैसा है ?
और
2-आप के बच्चे क्या करते हैं ?

।। नमस्कार ।।🙏🏻🚩

🚩शिक्षक बचाओ, देश बचेगा🚩

​✅अति विशिष्ट व्यक्ति / V I P कौन है?

🙏 क्या आप को जानकारी है कि…………

.

.
💥1)अमेरिका में सिर्फ दो तरह के लोगों को वी आई पी मानते हैं :

वैज्ञानिक और शिक्षक ।

.

.
💥2) फ्रांस के न्यायालय में सिर्फ शिक्षकों को ही कुर्सी पर बैठने का अधिकार है।

.

.

💥3) जापान में पुलिस सरकार से अनुमति लेने के बाद ही किसी शिक्षक को गिरफ्तार कर सकती है।

.

.

💥4) कोरिया में हर शिक्षक को वे सारे अधिकार प्राप्त हैं, जो भारत के मंत्री को प्राप्त हैं, सिर्फ अपना आई कार्ड दिखा कर ।

.

.

💥5) अमेरिकन तथा यूरोपीय देशों में प्राथमिक अध्यापक को सर्वाधिक वेतन मिलता है, क्योंकि कच्ची मिट्टी को वे ही पक्का करते हैं ।

.

.

🚷एक ऐसा समाज, जहाँ शिक्षकों का अपमान होता रहेगा, वहाँ सिर्फ चोर, डाकू, लुटेरे और भ्रष्टाचारी लोग ही पनपते है।

.

.

🇮🇳🚩शिक्षक बचाओ, देश बचेगा🚩🇮🇳

कृपया इस post को ज्यादा से ज्यादा share करे

जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगो तक ये अच्छी post पहुँच सके

सरकारी कार्यप्रणाली

​आज कोर्ट में एक अजीब मुकद्दमा चल रहा था, एक ग्रामीण ने तोप के लाइसेंस के लिये आवेदन दिया था, और इसे देखने हज़ारो की भीड़ और मीडिया  कोर्ट में हाज़िर थे।
जज ग्रामीण से ये तुमने तोप के लाइसेंस के लिए आवेदन पुरे होशोहवाश में दिया है?
ग्रामीण- जी हां जज साहब
जज- क्या तुम अदालत को बताओगे कि ये तोप तुम कहा और किस पर चलाने वाले हो।
ग्रामीण- जज साहब 
पिछले साल मैंने अपने ग्रामीण बैंक में 1 लाख रुपये के बेरोजगार लोन के लिये आवेदन किया,  बैंक वालो ने पूरी जाँच पड़ताल कर मुझे 10 हज़ार रुपये का लोन प्रदान किया।
उसके बाद मेरी बहन की शादी में मैंने राशन से 100 किलो शक्कर के लिए आवेदन किया और मुझे राशन से सिर्फ 10 किलो शक्कर मिली।
अभी कुछ दिन पहले जब मेरी फ़सल बाढ़ में डूब गयी तो पटवारी ने मेरे लिए 50 हज़ार रुपये का मुवायजा स्वीकृत करने की बात करके गया और मेरे खाते में मात्र 5 हज़ार रुपये ही आये।
इसलिए अब मैं सरकारी कार्यप्रणाली को बहुत अच्छे से समझ गया हूँ, मुझे तो बंदर भगाने के लिये पिस्तौल का लाइसेन्स चाहिए था पर मैंने सोचा की यदि मैं पिस्तौल के लाइसेन्स का आवेदन करूँगा तो

 मुझे कही आप गुलेल का लाइसेन्स न देदे, इसलिए मैंने तोप के लाइसेन्स का आवेदन दे दो ।।

कला, साहित्य और संस्कृति के क्षेत्र के शोधार्थियों और अध्येताओं के शोध-पत्र

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 49,490 other followers